गुरुवार, 10 सितंबर 2020

चांदनी रात#रामबाबू शर्मा, राजस्थानी जी द्वारा बेहतरीन रचना#

.
                 *हाइकु*
                  ~~~~
                 चांदनी रात
              टिमटिमाते तारे
                 मन हर्षाये ।
            🌕🌙🌕🌙🌕
            ⭐✨⭐✨⭐✨

                  दुखी जीवन
              फिसले मुट्ठी रेत
                   करे प्रयास ।
                  
                 जल अमृत
              मन से सोचे सब
                  बचें जरूर ।
            🌧🌧🌧🌧🌧🌧
            💦💦💦💦💦💦

                 अनुशासन
             जीवन उपयोगी
                  बढे कदम ।
            🏃🏃🏃🏃🏃🏃
            🕉🕉🕉🕉🕉🕉
             ©®
              रामबाबू शर्मा, राजस्थानी, दौसा(राज.)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें