रविवार, 20 सितंबर 2020

यहाँ तक चलना था#बाबूराम सिंह कवि जी द्वारा बेहतरीन रचना#

🌾यहाँ तक चलना था 🌾
    =================

बन गया कलि काल में क्यों क्रूर मानव ,
निज पथ से हो गया क्यों दूर मानव ।
मानवता सुचि में ही हरदम पलना था ,
तुम्हें सृष्टि शरताज यहाँ तक चलना था।

मात -पिता,गुरूजन की सेवा छोडकर ,
परलिप्सा स्वार्थ से नाता जोडकर।
ढ़ला नहीं क्यों जिसमे तुझको ढ़लना था।
तुम्हे सृष्टि शरताज यहाँ तक चलना था ।

दीन-दुखी ,अबला-अनाथ सेवा भूला ,
धन ,बल मद में रे मानव नाहक फूला ।
पर्वत सी पीडा में पर की गलना था ।
तुम्हे सृष्टि शरताज यहाँ तक चलना था।

प्यार से अत्याचार सदा मिटाना था ,
दीपक बन कर आलोक फैलाना था ।
भलाई  की बाती तेल से जलना था।
तुम्हे सृष्टि शरताज यहाँ तक चलना था।

पुनः मिले नर जीवन नेक काम करो ,
परहित परमार्थ ही शुबहो -शाम करो।
मन को "बाबूराम कवि " नित मलना था।
तुम्हे सृष्टि शरताज यहाँ तक चलना था।

*************************
बाबूराम सिंह कवि 
ग्राम-बड़का खुटहाँ ,पोस्ट -विजयीपुर (भरपुरवा )
जिला -गोपालगंज (बिहार )
मो0नं0 - 9572105032
*************************

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें