मंगलवार, 15 सितंबर 2020

कवि - आ. डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा मधुर रचना...

सागर समीक्षार्थ 
 विधा  -    हाइकु 


1  -        कोरोना तू तो
          है बड़ा ही निर्दयी
               कहां से आया

2  -         सुख भी छीने
            दुखों में तन्हा किया
                 अब जा कहीं
 
3 -               जीना मरना
                 सब कुछ बदला  
                     कोरोना तूने

4 -                चाह कर भी
                   नहीं जा सकते हैं
                        सुख दुख में
 
5 -             अकेले अब
                खड़े रह गए हैं  
                   सभी तो यहां

6  -                 बदल दिया
                सभी कुछ अब तो
                       कोरोना तूने

7 -                 कैसी विपत्ति
                   आई दुनिया पर
                        बचाओ प्रभु

8  -            रो रहे सभी
                अपने घरों में ही
                      घबराए से

 9 -             मन से हारे
              आज सभी जन तो
                      देखे घरों से

10  -          सब की पीड़ा
                अद्भुत बनी है
                    मूक सभी हैं 

11 -                ऐसी दुर्दशा
               देखी न सुनी कभी 
                    क्या हो रहा ये
 
12  -            मौन है प्रश्न
                उत्तर भी खामोश
                     सभी समझो



 डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल 
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें