सोमवार, 28 सितंबर 2020

कवि डॉ. जयप्रकाश नागला जी द्वारा 'कोरोना' विषय पर रचना

चलता गहरी चाल कोरोना ,
सबका बुरा हाल कोरोना ।

शहर ,गांव , और गली गली ,
बुन गया अपना जाल कोरोना ।

कुछ लॉक डाउन के मारे है ,
कितने हो गये कंगाल कोरोना ।

राजा - रंक एक ही कतार में ,
सब के सब बदहाल कोरोना ।

डर सभी का एक ही जैसा है ,
सबसे बड़ी है मिसाल कोरोना ।

आपत्ति को सबक भी कह दो ,
पर किसी को नही मलाल कोरोना ।

जिंदगी की बिसात बिछा कर ,
खेल रहा मौत का खेल कोरोना ।
----- डॉ . जयप्रकाश नागला

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें