शुक्रवार, 11 सितंबर 2020

याद आता है#एम मीमांसा#

  के  मेंहदी  तेरा,  सुखाना  याद  आता  है
उसी  में  नाम  मेरा  भी, लिखाना याद आता है
नही खा पा रहे थे तुम, पकड़ चम्मच कलाई से
वही खाना मिरा तुमको, खिलाना याद आता है

                        एम, "मीमांसा"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें