रविवार, 6 सितंबर 2020

कवियत्री एकता जी जी द्वारा खूबसूरत रचना

गुरु की गुरुता का बखान कर पाना बड़ा मुश्किल है, 
शिक्षा की ज्योति जलाना तिमिर में गुरु से हुआ हल है।
भटके हुए राह से मानव को सदा यथार्थ की राह दिखायी,
जिस पर है कृपा गुरु की ,वो नहीं जग में निर्बल है।
       ** एकता कुमारी **

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें