सोमवार, 21 सितंबर 2020

कवयित्री बिंदु गोयल जी द्वारा 'हिंद देश' विषय पर रचना

मैं हिंद देश का निवासी........
हिंदी मेरी शान है।
हिंदी से ही मेरा जीवन हिंदी मेरा मान है।
हिंदी है जन-जन की भाषा
हिंदी तुझे सलाम है।

हिंदी ही है सभ्यता हमारी
हिंदी ही मेरा मान है।
हिंदी मेरी मां का आंचल
हिंदी मेरा सम्मान है।

शपथ करो  ऐ हिंदवासियों
हिंदी को झुकने ना देंगे।
सब कुछ सीखेंगे मगर
मुझे हिंदी पर अभिमान है।

बिंदु गोयल

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें