मंगलवार, 8 सितंबर 2020

मेरे पिया तो# डॉ .राजेश कुमार जैन द्वारा रचना#

सादर समीक्षार्थ 
विधा    -          हाइकु 


1 -         मेरे पिया तो
            परदेस गए मैं 
              रोऊँ तड़पूं 

2    -         देखो सावन
              आग लगाए मन
                    छटपटाए

3 -.            बरसात में
             भीगा तन मन भी 
                 मैं शरमाऊं

4. -.       झूला झूलूँ मैं
           अपने पिया संग 
              बाहों में भर
       
 5 -           मेरे पिया तू 
           बड़ा निर्मोही मुझे 
               बड़ा सताए 

6    -         साजन बिन 
              लगता नहीं मन 
                    इस सावन 

7 -            सावन सूखा     
              लगता है दिल को   
                 बिन सजना

 8               पायल मेरी
              कुछ तो कहती है  
                   सुन तो पिया


 डॉ .राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें