शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

     सागर के बीच विषय पर शशिलता पाण्डेय जी द्वारा शशिलता पाण्डेय#

     सागर के बीच
**********************
  सीप बीच में, मोती अनमोल,
                सीप मिलें,सागर बीच में।
                    अम्बर बीच मे ,चाँद-सितारें,
                           नयनों बीच ,स्वर्णिम सपनें।
नूतन जीवन सपनों से संवारे,
    अम्बर बीच,अद्भुत दिनकर।
          चमकें धरा बीच,नदियाँ की धारे,
               बीच पहाड़ों से, बहता निर्झर।
जीवन एक सरिता, सागर ,
       हदय -बीच प्रेम की धारा।
           अविरल आगे बढ़ता जीवन,
                 लेकर उम्मीद की एक लहर।
नभ के बीच भास्कर चमके,
       आलोकित करती रश्मि-किरण।
              नव-जीवन का करकें सृजन,
                  निर्मल स्वच्छ विचारों के बीच।
जगत निर्माण करे नया सुन्दर,
        मनुज- प्रेम से सींच हृदय बीच।
                नई खुशियों का करके संचार,
                  जगायें मानव-बीच सागर से गहरा प्यार।
                  ******************************
स्वरचित और मौलिक       
सर्वाधिकार सुरक्षित
लेखिका      सागर के बीच
**********************
  सीप बीच में, मोती अनमोल,
                सीप मिलें,सागर बीच में।
                    अम्बर बीच मे ,चाँद-सितारें,
                           नयनों बीच ,स्वर्णिम सपनें।
नूतन जीवन सपनों से संवारे,
    अम्बर बीच,अद्भुत दिनकर।
          चमकें धरा बीच,नदियाँ की धारे,
               बीच पहाड़ों से, बहता निर्झर।
जीवन एक सरिता, सागर ,
       हदय -बीच प्रेम की धारा।
           अविरल आगे बढ़ता जीवन,
                 लेकर उम्मीद की एक लहर।
नभ के बीच भास्कर चमके,
       आलोकित करती रश्मि-किरण।
              नव-जीवन का करकें सृजन,
                  निर्मल स्वच्छ विचारों के बीच।
जगत निर्माण करे नया सुन्दर,
        मनुज- प्रेम से सींच हृदय बीच।
                नई खुशियों का करके संचार,
                  जगायें मानव-बीच सागर से गहरा प्यार।
                  ******************************
स्वरचित और मौलिक       
सर्वाधिकार सुरक्षित
लेखिका शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें