गुरुवार, 17 सितंबर 2020

सब मोहमाया है#शशिलता पाण्डेय जी द्वारा बेहतरीन रचना#

🌹सब मोहमाया है🌹
****************
परम-पिता''परमेश्वर ने,
   ये संसार बनाया है ।
       रंग-बिरंगी इस दुनियाँ में',
           रिश्तों का जाल' बिछाया है।
'अपने-अपने' फर्ज बताकर,
    सबको' इसमें उलझाया है ।
      एक दिन जाना सबको' है,
           जो इस दुनियाँ में आया' है।
कोई' किसी का'' नही यहाँ,
     बस,सब मोह-माया है ।
         कभी' रंक बना 'राजा  है ,
             राजा को' 'रंक' बनाया है।
कर्म किया है जिसने जैसा, 
   वैसा ही दिन दिखलाया है
        ये दुनियाँ' है रंगमंच' सी 
            भूमिका सबने निभाया है।
परोपकार को मानव-जीवन ने,
    अपना लक्ष्य  बनाया है।
'        'निःस्वार्थ मानवता ने ही तो,
             यहाँ अमरत्व को पाया है ।
वरना' जीव-जंतु भी आते,
      लेकर' दुनियाँ में अपनी काया है ।
           मानव -तन लेकर  भी जिसने,
                खुद खाया और कमाया' है।
इंसानी काया लेकर भी,
       धरती का बोझ बढ़ाया है।
             'एक पशुऔर मानव में'',
                     इतना ही अंतर पाया है ।
बाकी दुनियाँ कुछ भी नही है,
    क्षणभंगुर ये सारा जीवन।
            ये कोमल काया मिट्टी की
                  बस' सब मोह-माया है।

           🙅 समाप्त🙅स्वरचित और मौलिक
                                 सर्वार्वाधिकार सुरक्षित
                           कवयित्री-शशिबलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें