बुधवार, 9 सितंबर 2020

कवयित्री एकता जी द्वारा सुंदर रचना

शिकायत नहीं ये मेरी तुमसे कि वक़्त तुमने मुझे दिया नहीं।
शिकायत तो इस बात की है कि मुझे तुमने कभी समझा नहीं।
मैंने इश्क, इबादत अरदास,मन मंदिर का रब तुमको ही माना,
शिकायत रहेगी जन्मों-जन्म तक मुझे मुहब्बत का सिला दिया नहीं।
              ** एकता कुमारी **

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें