बुधवार, 2 सितंबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा 'प्रातः उठ करो प्रभु का ध्यान' विषय पर रचना

प्रातः उठ करो प्रभु का ध्यान 
                      क्षमा करो हमें है भगवान 
              हम मानव सब है नादान 
                      क्षमा करो हमें है भगवान 
             सत्य की हम राह अपनाए 
                        झूठ कभी नहीँ कहा करे 
              रागद्वेष अहम हम त्यागे 
                   अहिंसा की हम राह अपनाए 
              प्रातः उठ करो प्रभु का ध्यान  
                        क्षमा करो हमें है भगवान 
             सब जीवों से प्यार करे 
                    सब से अच्छा व्यवहार करे 
             इतना बल दो हमें भगवान 
                              पाप कर्म से दूर  रहें 
              प्रातः उठ करो  प्रभु का ध्यान 
                          मात पिता कॊ करो प्रणाम 
             पहले उनसे माफी मांगो 
                         गलती अपनी आप सुधारो 
            उनकी सेवा करके नित 
                         अपना तुम परलोक सुधारो 
             प्रातः उठ करो प्रभु का ध्यान 
                            क्षमा करो हमें है भगवान 
            क्षमा भाव सदा हम अपनाए 
                            इतना बल हमें दो भगवान 
           " लक्ष्य" अहिंसा धर्म अपनाए 
                          ..इतना बल हमें दो भगवान 

                          निर्दोष लक्ष्य जैन 
                                धनबाद झारखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें