मंगलवार, 1 सितंबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा 'क्षमा' विषय पर रचना

क्षमा क्षमा क्षमा 

       क्षमा भाव भाई क्षमा क्षमा 
                  क्षमा क्षमा भाई क्षमा क्षमा 
      सब जीवों  से    क्षमा क्षमा 
                सबसे क्षमा और सबको क्षमा 
       क्षमा भाव भाई क्षमा  क्षमा 
                          क्षमा पर्व है क्षमा क्षमा 
      क्षमा भाव से दोस्त सब बनते 
                     दुश्मन भी तो गले से मिलते 
        बेर भाव सब मिट जाते है 
                   आपस में सब प्यार करते है 
       क्षमा भाव भाई क्षमा क्षमा 
                      सब जीवों से क्षमा  क्षमा 
  .. क्षमा मांग लो जग अपना है 
                   धरती का कण कण अपना है 
     क्षमा वीर का आभूषण  है 
                           क्षमा पर्व ही पर्युषण है 
        सब जीवों से क्षमा क्षमा 
                     क्षमा पर्व "लक्ष्य"क्षमा क्षमा 
  
.                              निर्दोष लक्ष्य जैन 
                                   6201698096

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें