मंगलवार, 15 सितंबर 2020

सायली छंद# डॉ.राजेश कुमार जैन जी द्वारा बेहतरीन रचना#

सादर समीक्षार्थ
 सायली छंद



1 -            हिमालय
                की  गगन 
          चूमती ऊँचाई देख  
               हृदय झूम
                    उठा 

2  -              हिमालय
                  तुम कितने
              उतुंग और भव्य
                      हो वाह 
                      अद्भुत 

3  -              हिमालय 
                तुम्हारा अनूठा 
               सौंदर्य और तुम्हारा 
                 मौन रहस्यमय 
                             है

 4    -          हिमालय
               तुम पर्वतराज
 सर्वोच्च, सर्वश्रेष्ठ, सुंदरतम
               अनुपम हो 
                   सदैव

5 -              हिमालय
             सर्वशक्तिमान हो 
             तुम और वंदनीय 
                   भी सदा 
                        रहोगे

6 -                  हिमालय
                  तुम्हारे प्रांगण
                देवताओं के वास
                  ऋषि निवास 
                        पूजनीय

7-                     हिमालय 
                        तुम जितने
                       उतुंग उतने ही 
                           गहरे हो 
                           अंतर्विरोध




 डॉ.राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल 
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें