शनिवार, 26 सितंबर 2020

कवयित्री साधना मिश्रा विंध्य जी द्वारा रचना (विषय- गीत)

पावन मंच को नमन 

दिनांक -26/9 /2020
विषय-  *गीत*
शीर्षक- *सरस्वती वंदना*



सरस्वती हे!मां भगवती 
सरस्वती मां भगवती 
ज्ञान का  प्रकाश दें।
भगवती हे! मां भगवती
अज्ञान से उबार दें।


विघ्न बाधा टाल माता
सुमति दे सुविचार  दे,
दुख विपदा टाल माता
सद् गति सद् भाव दें।

सरस्वती हे!मां भगवती ,
सरस्वती मां भगवती 
ज्ञान का  प्रकाश दें।
भगवती हे !मां भगवती
अज्ञान से उबार दें।

अज्ञानता से तार माता
 ज्ञान का प्रकाश दें,
कुबुद्धि को सुबुद्धि कर
भावों को सवार दे।

सरस्वती हे!मां भगवती ,
सरस्वती मां भगवती 
ज्ञान का  प्रकाश दें।
भगवती हे !मां भगवती
अज्ञान से उबार दें।

साधना मिश्रा विंध्य
लखनऊ उत्तर प्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें