मंगलवार, 29 सितंबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा 'शहीद भगत सिंह' विषय पर रचना

शहीद भगत सिंह 

      जिसने अंगारों   पर  चलना 
              मौत से  लड़ना  सिखलाया 
      जिसने आजादी का  मतलब 
                    रग  रग   में .है  रचाया 
       जिसने अंग्रेजों के खिलाफ 
                   जहर भर दिया  सीने में 
      नमन, नमन है नमन, नमन 
                भगत सिंग की माँ कॊ नमन ॥ 
     जिसने माँ के शब्द, शब्द कॊ 
                दिल में अपने समाया     था 
।     जिसकी अंग्रेजों के खिलाफ 
                 आंँखों में खून उतर आया था 
    जिसने अंग्रेजों के खिलाफ 
                 जमकर अभियान चलाया था 
    अंग्रेजों भागो भारत छोड़ों 
                  गली , गली में चिल्लाया  था 
   अंग्रेजी सरकार कॊ जिसने 
                     नाको चना चबाया      था 
   सुखदेव ,राजगुरु आजाद के संग 
                    जमकर उत्पात मचाया था 
    अंग्रेजी शासन  कॊ जिसने 
                  जमकर   सबक सिखाया था 
    वंदे मातरम , वंदे मातरम 
                    का नारा खूब लगाया   था 
    ..नमन, नमन, है नमन तुम्हे 
         शहीद भगत सिंग कॊ नमन, नमन ॥ 
    अंग्रजों के गिरफ्त में आया 
              तनिक नहीँ    घबराया      था 
    चुम के फंदा फांसी   का 
               भगत सिंग "लक्ष्य" बोला था 
    मेरा  रंग दे बसंती   चोला 
                ओ माई रंग दे बसंती    चोला 
     बोली हर हर महादेव की 
                 बच्चा  बच्चा    बोला     था ॥ 

          स्वरचित    निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें