गुरुवार, 10 सितंबर 2020

सुनील दत्त मिश्रा जी फिल्म एक्टर लेखक बिलासपुर छत्तीसगढ़ द्वारा बेहतरीन रचना#

शांत सरोवर सा है दरिया
बादल अब आक्रांत कहां
बूंदे गिरती तालाबों में
मन में अब विश्रांत कहां
प्रखर  किरण है  सूर्य देव की
फिर भी मन व्याकुल क्यों है
मुझमें रचा बसा  क्यो  कोई 
बूंदों की औकात कहाँ
सुनील दत्त मिश्रा फिल्म एक्टर लेखक बिलासपुर छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें