रविवार, 30 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'वो जो अधूरी सी बात अभी बाकी है!' विषय पर सुंदर रचना

                 🌹 वो जो अधूरी सी बात अभी बाकी है!🌹
******************************************
                  अभी मेरे सारे सवालों के ,
                     मुश्किल जवाब बाकी है।
                     कम है पूरी जिंदगी भी,
                    अभी सारे इल्जाम बाकी है।
                     अधूरी जिन्दगी के सपनों से,
                     मुलाकात अभी बाकी है।
                    दिल मे उमड़ते वो सुखद,
                    एहसास अभी बाकी है।
                      जो शब्दों में बयां नही होती,
                        वो सच्चें अल्फ़ाज़  बाकी है।
                      आज सारी उदास रातो की,
              वो जो अधूरी सी बात बाकी है।
           इस काली अंधेरी सी रात में,
        तारों की बरात अभी बाकी है।
   वो ज़ो दिलों के मासूम ख्यालो के,
      सारे जज़्बात अभी बाकी है।
           मेरी अधूरी तमन्नाओं की,
              एक अनूठी सौगात अभी बाकी है।
                   खाली प्यालों को जिन्दगी के,
                    भरने को तैयार साकी है।
                     मेरी उदास सी जिन्दगी में,
                       बहारों से मुलाकात अभी बाकी है।
                        अपनें रंगीन सपनों में रंग भरने की,
                           वो जो अधूरी सी बात बाकी है।
******************************************
         💐 समाप्त💐स्वरचित व मौलिक 
                              सर्वाधिकार सुरक्षित
                 लेखिका:-शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें