गुरुवार, 6 अगस्त 2020

भूमि पूजन पर विशेष कविता- मन मन्दिर

बदलाव साहित्य मंच

दिनांक--05-08-2020
दिन- बुधवार

शीर्षक- मन मंदिर
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
स्वरचित रचना
🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸
प्रभु गुणों का गान जहां हो,
मात पिता का मान जहां हो,
जन जन का हृदय प्रदेश अब,
मन मंदिर  श्री राम  मय हो |

मर्यादा  का  भान  जहाँ हो,
वेद शास्त्र का ज्ञान जहाँ हो,
सिय प्रीत हिय बसी जहाँ पर,
मन मंदिर श्री राम मय हो |

भातृ प्रेम व्यवहार जहाँ हो,
वचनों का सम्मान जहाँ हो,
त्याग भाव से भरे हृदय अब,
मन मंदिर श्री राम मय हो |

पुरूषार्थ का भाव जहाँ हो,
हनुमान बल तेज जहाँ हो,
सेवा भाव बसे जिस हिय मे,
मन मंदिर श्री राम मय हो |

दुष्ट दलन विश्वास जहाँ हो,
अहंकार का नाश जहाँ हो,
पतित पावन मन रमेश अब,
मन मंदिर श्री राम मय हो |
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
नाम-रमेश चंद्र भाट
पता-टाईप-4/61-सी,
अणुआशा कालोनी,
रावतभाटा।
मो.9413356728

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें