रविवार, 16 अगस्त 2020

परम श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की पुण्यतिथि

आज राजनैतिक ऋषि भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेई जी की द्बितीय पुण्यतिथि है आज ही के दिन क्रूर काल ने उनको हम से छीन लिया
 
श्री वाजपेई जी ने शालीनता और नैतिकता की राजनीति अपनाई  और संकीर्ण राजनीति से सदा दूर रहें 

वो एक दार्शनिक और महान कवि थे और प्रखर वक्ता थे
सरस्वती का उन पर अपार कृपा थी  मैं स्कूल के समय से वाजपेई जी का प्रशंसक था और उनके भाषण सुनता था संसद में उनके ओजस्वी वाणी विपक्षियों का भी दिल जीत लेती थी १९५७ में जब संसद में चुन कर आए तो अपनी भाषा एवं भाषण कला से पूरी संसद का दिल जीत लिया था तब तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री जवाहर लाल नेहरू ने भविष्य वाणी की थी कि अटल जी एक दिन भारत के प्रधानमंत्री बनेंगे जो कि सच साबित हुई

अटल जी हिन्दी के प्रचार-प्रसार में विशेष रूप से कार्य करते थे  १९७७ में जब वो मोरारजी देसाई के मंत्रीमंडल में विदेश मंत्री थे तब उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी भाषा में भाषण दे कर हिंदी भाषा का मान बढ़ाया
विदेशों में वो अपनी भाषा का प्रयोग करते थे और मातृभाषा की पताका हमेशा ऊंची फहराई  बंगला देश के राष्ट्र कवि क़ाज़ी नजरूल इस्लाम को हिंदी में श्रृद्धांजलि अर्पित कर के वहां के नेतृत्व को आश्चर्यचकित कर दिया
 जम्मू में तत्कालीन जनसंघ के वरिष्ठ नेता पंडित प्रेम नाथ डोगरा जी को हिंदी भाषा में श्रृद्धांजलि अर्पित की

  वो उदार सृहदय और खुले विचारों के व्यक्तित्व के स्वामी थे वो पहले जनसंघी विदेश मंत्री थे जिन्होंने मुस्लिम देशों में अपनी क्षमताओं का लोहा मनवाया और सफलता अर्जित की वो विनोदी स्वभाव के व्यक्ति थे जटिल और गंभीर सवालों को हंसी मजाक में हल करते थे
 उन की योग्यता के।  उन के विरोधी भी कायल थे
1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री पी वी नरसिम्हा राव ने उनके नेतृत्व में भारतीय प्रतिनिधिमंडल संयुकत राष्ट्र संघ मेंभेजा तब के विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद उनके  नेतृत्व में शामिल थे  पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी भी देश विदेश के मामलों में उनसे परामर्श लेती थी

उन्होंने राजनीति में मुल्यों की स्थापना की
वो चाहते तो जोड़ तोड़ की राजनीति अपना कर कुर्सी पर चिपक सकते थे लेकिन उन्होंने नैतिकता को अपनाया
 आज वाजपेई जी हमारे बीच नहीं हैं लेकिन वो वैचारिक तौर पर सदा हमारे दिलों में अंकित रहेंगे
इन्हीं शब्दों के साथ मैं वाजपेई जी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं
युगों युगों तक वो याद रहेंगे
जब तक सूरज चांद रहेगा अटल जी तुम्हारा नाम रहेगा

                            अशोक शर्मा वशिष्ठ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें