शुक्रवार, 21 अगस्त 2020

कवि आकाश अग्रवाल जी की स्वतंत्र विधा पर रचना

🙏मंच नमन🙏
 *कविवाणी कविता काव्यपाठ*
दिन- शुक्रवार
दिनाँक- 21/8/20
विषय-उम्मीद पर दुनिया कायम
शीर्षक-फ़रेबी उम्मीद
विधा-स्वतंत्र

*झूठ की दुकानों में सच्चाई आज कायम है;*
*रिश्ता दिल में होकर भी अंगारों पर कायम है!!*
*जो उम्मीद आजकल जहाँ में है ही नहीं;*
*उसी फ़रेबी उम्मीद पर दुनिया कायम है!!*
*@कवि_आकाश_अग्रवाल_लहार(candy)!!*

*पता-लहार भिण्ड मध्यप्रदेश*
💐💐💐💐💐💐💐💐💐

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें