शनिवार, 1 अगस्त 2020

झूला पड़ा दीवार पर,डालें ही गायब हो गईं




झूला पड़ा दीवार पर ,डालें ही गायब हो गईं 
------------------------------------------------------
सावन की खुशबू थीँ जो ,
मल्हारें ही गायब हो गईं ।
मेघ बरसते हैं अब भी ,
बौछारें ही गायब हो गईं ।।
बात कहकर हैं मुकरते ,
बातें ही गायब हो गईं ।
बिन-मांगते धन कर मदद ,
यादें ही गायब हो गईं ।।
मजदूर की मजदूरी न दें,
ईश बनना चाहते   ।
हैं मगर इन्सान ,
इंसानियत ही गायब हो गईं।।
तकिया लगाके झूलते ,
पटलियां ही गायब हो गईं ।
झूला पड़ा दीवार पर ,
डालें ही गायब हो गईं ।।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"
अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें