मंगलवार, 4 अगस्त 2020

मानव धर्म का मूल यह

🌾मानव धर्म का मूल यह 🌾
*************************

क-कर्तव्य  कर्म  करूणा कौशलसुचि अपनाइये।
ख-खुदको मिटा खुदीमें खुशियोंमें ही खप जाइये 
ग-गौ  गंगा  गायत्री  गुरू गोविन्द गुण नित गाइये 
घ-घट-घटके वासी अघनासी घर घाट परही जाइये 
च-चित  चारू  चन्दन  बने नहीं चोट माया खाइये।

छ- छल छुद्र से छकिये नही छमा छवि बिछाइये।
ज-जीवन ज्योति लौ  जला जागरूक  हो  जाइये।
झ- झूठ झंझट  झार झट झंकार सत्य गुंजाइये ।
ट- टलिये नही हरि टेर से रट के टेक बन जाइये।
ठ-ठग ठीक ठाकुर ठांवका नहीं ठगे से रह जाइये।

ड-डुब भक्तिमें  डटे  रहो डवांडोल ना हो जाइये।
ढ़ -ढ़कोसला ढ़ब  ढो़ंग को ढा़ढ़स से दृढ़  दबाइये 
त - तामस तमस से तन हटा तप त्याग में तपाइये।
थ-थाम्ह थाली नामकी थल थार बन थम्ह जाइये 
द-दुख  दर्द  दारूण  दबा दया दान से यश पाइये।

ध - धर्मात्मा बन ध्यान कर धन ध्येय धर्म लगाइये 
न - नम्र  नन्द  नन्दन  छवि नैनन में नेक बसाइये ।
प - प्रेमातुर रह  परम  प्रभु प्यार पल -पल  पाइये।
फ-फूल फूले प्रेम का फल में नही फंस  जाइये।
ब -बेशक बढो़ निजलक्ष्य पर वीर व्रती बनजाइये।

भ - भक्ति भजन भगवान में भरपुर आनंद पाइये।
म - मुस्कान मानवता महक जग मान से महकाइये 
मानव  धर्म  का मूल  यह  इसको नही  बिसराइये 
अपनाइसे कवि बाबूराम सुख दीजिये सुख पाइये।

*************************
बाबूराम सिंह कवि 
बड़का खुटहाँ , विजयीपुर 
गोपालगंज ( बिहार )841508
मो0नं0- 9572105032
*************************

On Sun, Jun 14, 2020, 2:30 PM Baburam Bhagat <baburambhagat1604@gmail.com> wrote:
🌾कुण्डलियाँ 🌾
*************************
                     1
पौधारोपण कीजिए, सब मिल हो तैयार। 
परदूषित पर्यावरण, होगा तभी सुधार।। 
होगा तभी सुधार, सुखी जन जीवन होगा ,
सुखमय हो संसार, प्यार संजीवन होगा ।
कहँ "बाबू कविराय "सरस उगे तरु कोपण, 
यथाशीघ्र जुट जायँ, करो सब पौधारोपण।
*************************   
                      2
गंगा, यमुना, सरस्वती, साफ रखें हर हाल। 
इनकी महिमा की कहीं, जग में नहीं मिसाल।। 
जग में नहीं मिसाल, ख्याल जन -जन ही रखना, 
निर्मल रखो सदैव, सु -फल सेवा का चखना। 
कहँ "बाबू कविराय "बिना सेवा नर नंगा, 
करती भव से पार, सदा ही सबको  गंगा। 
*************************
                       3
जग जीवन का है सदा, सत्य स्वच्छता सार। 
है अनुपम धन -अन्न का, सेवा दान अधार।। 
सेवा दान अधार, अजब गुणकारी जग में, 
वाणी बुध्दि विचार, शुध्द कर जीवन मग में। 
कहँ "बाबू कविराय "सुपथ पर हो मानव लग, 
निर्मल हो जलवायु, लगेगा अपना ही जग। 

*************************
बाबूराम सिंह कवि 
ग्राम -बड़का खुटहाँ, पोस्ट -विजयीपुर (भरपुरवा) 
जिला -गोपालगंज (बिहार) पिन -841508 मो0नं0-9572105032
*************************
मै बाबूराम सिंह कवि यह प्रमाणित करता हूँ कि यह रचना मौलिक व स्वरचित है। प्रतियोगिता में सम्मीलार्थ प्रेषित। 
          हरि स्मरण। 
*************************

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें