रविवार, 9 अगस्त 2020

वादों की बरसात से दरिया है भरपूर।।लेकिन हम प्यासे खड़े,साहिल पर मजबूर।।

कुछ दोहे,,
 होंठों पर ताले लगे पैरों में ज़ंजीर।।
उसपर भी हम ढो रहे,पर्वत जैसी
पीर।।

वादों की बरसात से दरिया है
भरपूर।।
लेकिन हम प्यासे खड़े,साहिल पर
मजबूर।।

पतवारें टूटी हुईं ,सागर में तूफान।।
मांझी तेरे हाल पर, रहम करें
भगवान।।

शीशे का लेकर बदन, चढ़ ना
हमें पहाड़।।
उसपर आंधी तेज है,और
खोखले झाड़।।

बृंदावन राय सरल सागर एमपी

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें