शनिवार, 1 अगस्त 2020

सावन गीत

डॉ अलका पाण्डेय मुम्बई
शिर्षक
मनभावन सावन आया

मनभावन सावन आया !
दिल में आंनद समाया !!
झूले पड गये अमराई !
नभ जलधारा ले आया !!

मन भावन सावन आया !
अमृतधारा लेकर आया !!

हरियाली चहू ओर छाई !
वसुधंरा खिल खिल गई !!
चातक ,मोर ,पपीहा नाचे !
नन्ही नन्ही बूँदें इठलाई !!

मन भावन सावन आया !
शीतल पवन लेकर आया !!

भिगा भिगा तन मन बहका !
प्रकृति का सौन्दर्य चहका !!
बिखरी माटी की सोंधी खूशबू !
फूलों से वन उपवन महका !!

मन भावन सावन आया !
हर्षों उल्लास लेकर आया !!


डॉ अलका पाण्डेय मुम्बई

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें