रविवार, 2 अगस्त 2020

काव्यत्मक भाषण

बदलाव मंच
बदलाव लाने के लिए मन में भाव और जोश होना चाहिए !
प्रतियोगिता २९/ से ४/८/२०२०
सप्ताहिक - विषय भाषण स्वतंत्रता दिवस
काव्य मय
लिखित अनिवार्य आडियो / विडीयो / स्वैच्छिक

हमने जो कुछ पढा किताबों में
हम को जो कुछ पढ़ाया पाठशाला में !!
आओ आज तुम्हें बताती हूँ
पन्द्रह अगस्त आज़ादी की कहानी सब को सुनाती हू !
पहले सब मिलकर बोलो वंदेमातरम वंदेमातरम...

पन्द्रह अगस्त का शुभ दिया
लाल क़िले पर तिरगां लहराया
१1947 को हमने आज़ादी का बिगुल बजाया !!

आज़ादी की लिखी दी कहानी
हमारे वीर शहीदों , जान गँवाकर
आज़ादी लाए
शहीदों की क़ुर्बानी को व्यर्थ न जाने ,
राष्ट्र हित का काम करना देश का विकास करना !!
हमारी सोने की चिडीयो की गर्दन दबोची थी अंग्रेजों ने
अत्याचार कर देश को लूटा था !!
हमारे देश के जवानों ने क्रांति की मशाल जलाई थी

गांधी के सत्यअहिंसा के हथियारों ने अंग्रेजों का हौसला पस्त किया
आसान नहीं था अंग्रेजों को भगाना
आजाद ,भगतसिंह , सुखदेव , की क़ुर्बानी ने किया कमाल

देश का युवा जाग गया , मन मेंउसने ठान लिया
रात दिन एक कर देगें
आज़ादी लेकर दम लेगे
देश की ग़ुलामी की ज़ंजीरों को तोड़ा !
लाखो ने अपना सर्वस्व लुटाया !!
तब जा कर आज़ादी आई
बहुत बड़ी किमत चुकाई !!

नमन करते है हम शहीदों को
उनके बलिदानों को व्यर्थ न जाने देना !
भारत की अंखडता को मिटने न देना !!
आज़ादी का पर्व हम सब मिल कर बनाए
बदलाव मंच पर आकर शहीदों को नमन करें

अपने मन के उदगार आकर यहाँ सुनाव और सबकी सुनो ....
वदें मातरम वन्दे मातरम वन्दे मातरम्
जय भारत जय भारतवासी जय जय,
जय हिंद जय हिंद जय जय जय हिंद
डॉ अलका पाण्डेय मुम्बई
अलका पाडेंय (अगनिशिखा मंच)
देविका रो हाऊस प्लांट न.७४ सेक्टर १
कोपरखैराने नवि मुम्बई च४००७०९
मो.न.९९२०८९९२१४
ई मेल alkapandey74@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें