मंगलवार, 4 अगस्त 2020

हे मानव ईश्वर से डर

हे मानव ईश्वर से डर
सदा तू अच्छे कर्म कर
मानवता को भूल गया क्यूं
दानवता के पथ पर चल कर
  
  दया धर्म सब भूल गया तूं
पाप की राह पर चल कर
 
झूठी अकड़ झूठी शान
काहे को तू बने महान
जाएगी इक दिन जब जान
धरी की धरी रह जाएगी झूठी तेरी शान
फिर किस पर तू करें गुमान

 प्रभु तुझे दे रहा चेतावनी
फिर भी करता रहता मनमानी
 सुनामी भूकंप सब प्रभु का क्रोध
फिर भी तुम्हें नहीं है वोध
कब आएगी तुझे समझ

लूट खसूट जो तूने मचाई
पैसे के पीछे बना शौदाई
शर्म हया सब बेच के खाई
मानवता की खिल्ली उड़ाई
कैसे होगा तेरा कल्याण
इस का तुम्हें नहीं है भान

         अशोक शर्मा वशिष्ठ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें