रविवार, 16 अगस्त 2020

हे अटल!तुम्हें, शत शत नमन

 यशस्वी प्रधानमंत्री  युग पुरूष माननीय अटल बिहारी बाजपेयी जी  की द्वितीय पुण्य तिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित...



हे अटल!तुम्हें, शत शत नमन
वंदन है,अभिनंदन है..।।

सम्पूर्ण राष्ट्र को दिया तुमने मान 
तुम सृष्टि के अद्भुत,थे नायक
रहे अटल और, दृढ़ निश्चयी तुम
अटल विश्वास के,धनी कुबेर तुम..।।

अद्भुत था, वाक चातुर्य तुम्हारा
निर्भीक,निडर और स्वाभिमानी
तेजस्वी मुख मण्डल,दैदीप्यमान
विपक्षी भी करते,मान सम्मान..।।

विरोधी न था,कोई भी जग में
सैद्धान्तिक मतभेद अलग बात थी
राष्ट्र हित था,सर्वोच्च,सर्वोपरी
पथभ्रष्ट न कभी कोई,कर सका था..।।

माँ शारदे थी,अति कृपालु तुम पर
रहे सदा तुम,विद्वान प्रखर प्रवक्ता
हाजिर जवाबी का, न कोई सानी था
चुटीले अंदाजों से,जन जन प्रभावित था..।।

साहित्याकाश पर,छाप अमिट छोड़ गए
हिंदी को पूर्ण,तुमने सम्मान दिया
कहाँ चले गए तुम, छोड़ सभी को
हे भारत माँ ! के, वीर सच्चे पुजारी..।।

हे अटल तुम्हें शत शत नमन
वंदन है , अभिनंदन है..।।


डॉ. राजेश कुमार जैन
श्रीनगर गढ़वाल
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें