शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

अंतरराष्ट्रीय कवयित्री अनुपम रमेश किंगर जी द्वारा रचना

फिर आज जुम्मे का बाजार लगा 
फिर बोली सरेआम हुए 
फिर एक मेहंदी सिंदूर बिंदिया 
घर की दहलीज पर नीलाम हुई
 मां के दूध का फिर हुआ सौदा अजमत मोहब्बत की सरेआम लूटी आंसू किसी को ना नजर आए
 बस एक जिंदगी तमाशा जहान हुए।

-अनुपम रमेश किंगर(अंतरराष्ट्रीय कवयित्री)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें