सोमवार, 3 अगस्त 2020

रक्षाबंधन का त्यौहार है,हर बहन का अरमान हैं,

कवि: उदय झा 
कविता: रक्षाबंधन
रक्षाबंधन का त्यौहार है,
हर बहन का अरमान हैं,
भाई का ही इंतजार हैं,         विश्व मे कोरोना का फैलाव हैं,
कैसा होगा रक्षाबंधन का त्यौहार,
एक रक्षाबंधन का त्यौहार है,
हर बहन का अरमान हैं,
भाई का ही इंतजार हैं,         
कैसे होगा रक्षाबंधन का त्यौहार,
विश्व मे है कोरोना का फैलाव,
हर बहन से है यही अरदाश,
नहीं है अभी साथ भाई तुम्हारा,
उन वीरो को बांधो राखी तुम,
जो है आज अपने परिवार से दूर,
उनकी भी इज्जत करो तुम ।
   रक्षाबंधन ची हार्दिक शुभकामनाएं

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें