शनिवार, 15 अगस्त 2020

ये बदलाव की तो महज़ शुरुआत है।
यहाँ तो न जाने कितने पुरोधाओं की ज़मात है।
इतना बुलंदी पे पहुंचाएंगे इस मंच को मिलकर दोस्तों कि
लोग भी कह उठेंगे वाह ज़नाब यही तो बदलाव की करामात है।।
©®जितेन्द्र विजयश्री पाण्डेय "जीत" प्रयागराज, उत्तर प्रदेश

©®मौलिक, स्वरचित और अप्रकाशित

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें