रविवार, 23 अगस्त 2020

अंतर्राष्ट्रीय सचिव 'बदलाव मंच' डॉ. सत्यम भास्कर "भ्रमरपुरिया" जी द्वारा 'आशिकों मेरा नाम हो गया' विषय पर सुंदर कविता

आशिकों मे मेरा सबसे ऊंचा नाम हो गया,
गली, मुहल्ले, चौक, चोराहे चर्चा मेरा सरेआम हो गया।

ख्वाबों मे जिसका दीदार था करता,
उसकी होठों पर मेरा नाम आ गया।
मासूमियत से सराबोर, झील सी आंखे, 
गुलाबी होंठ, सब मुझपर मेहरबान हो गया।
आशिकों मे मेरा ऊंचा नाम हो गया।।

यारों क्या बताऊँ हाल ए दिल सत्यम का,
मुफ्त मे सबकी जुबां पर अपना नाम आ गया।
कोई कसर न रखी दुनिया वालों ने,
जी भर कर खुलेआम बदनाम कर दिया।
जिसके सपने देखा करता था,
उनकी सहेलियों मे मैं सरेआम हो गया।
आशिकों मे मेरा ऊंचा नाम हो गया।।

दीवानगी है या पागलपन,
कुछ भी हो किसी के तो काम आ गया।
दिवाना हूँ पर गुमनाम हो गया।
अब मेरा किस्सा मेरे ही काम आ गया।
मुहब्बत, हसीना, उल्फत, दिलबर,
तमाम लब्जों का गुलाम हो गया।

आशिकों मे मेरा ऊंचा नाम हो गया।
बड़ी प्यार से मैं बदनाम हो गया।।

*डॉ सत्यम भास्कर "भ्रमरपुरिया"*
*अंतर्राष्ट्रीय सचिव (बदलाव मंच)*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें