सोमवार, 31 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'मोहे शिव दर्शन की आस!' विषय पर रचना

   🌷मोहे शिव दर्शन की आस!🌷
     🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷
   ***********************
    शिवशंकर, भोले भंडारी,
        गिरिजापति  चंद्रशेखर त्रिपुरारी।
               भाल-चंद्र सिर जटा विराजत,
                     तेरी महिमा अपरंपार।
                        सिर मुकुल मंदाकिनी धार।
                          मन तड़पत शिव-दर्शन को,
                         लगी भोले- दर्शन की आस।
                 नैनों में नीर बहत अविरल,
                   मोरे मन मे लगी है आस।
                   देखत-देखत रैना बीती,
                    बीते ग्रीष्म तन ठिठुरन लागे।
                      देखत-देखत बीत गए चौमास,
            अँखियन में शिव-दर्शन की प्यास।
               गौरी-नाथ गिरीश त्रिलोचन,
                नयना नीर बहावत लोचन।
             अब बीतत है मधुमास,
             मोहे शिव-दर्शन की आस।
               देखत -देखत सावन आएँ
                 काले बदरा  जल बरसायें।
                    गिरिजापति, पर्वत वासी, कैलाश,
                       मोहे शिव दर्शन की आस।

               💐समाप्त💐 स्वरचित व मौलिक
                                    सर्वाधिकार सुरक्षित
                                     लेखिका शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें