रविवार, 23 अगस्त 2020

डॉ. अनिता तिवारी जी द्वारा रचित रचना

मंच को नमन 🙏

कुछ जलता है ,तभी उजास मिलता है।।
बिना चले भला ,सफर कहां कटता है।
बहुत भीड़ में भी लोग अकेले ही रहे हरदम
बिना गहराइयों के कोई सागर कहां बनता है।

डॉ . अनीता तिवारी,भोपाल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें