मंगलवार, 25 अगस्त 2020

कवि डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा रचित 'प्रकृति' विषय पर हाइकु

सादर समीक्षार्थ
 हाइकु 


1 -             प्रकृति हुई 
            कुपित, अतिवृष्टि
                 हुई है तभी


 2 -               प्रभु की लीला 
                  अदभुत है होती
                   सभी को भाती 


3 -                भाग्य भरोसे 
                   कब तक रहोगे
                       कर्म कर लो 


4 -           दिल दुखाओ
          कभी न किसी का भी
                 दुखी रहोगे 


5 -               खुशियाँ बांटो
                 सदा सभी को तुम
                     खुश रहोगे 


6 -               सहारा बनो 
               सभी का सदा तुम
                     काम बनेंगे

7 -              हक़ न छीनो
              कभी किसी का तुम
                     रोते रहोगे



डॉ .राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल 
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें