शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

सीता माता महिमा

आज का दिन बहुत ऐतिहासिक है आज अयोध्या मे राम मंदिर का भूमि पूजन और शिलान्यास होगा सभी धर्म प्रेमियों को हार्दिक शुभकामनाएं
इस शुभ अवसर पर सीता मैय्या के चरणों मे काव्य रुपी पुष्प अर्पित कर रहा हूँ

  सीता माता महिमा

जग जननी सीता माता तुम्हें प्रणाम
सारा विश्व करे तेरा गुणगान
तेरी महिमा का करे बखान
पतिव्रता सतित्व तुम्हारी पहचान
नारी जाति का बढाया  मान

जनक नंदनी मिथिला की प्यारी
छवि तुम्हारी बडी ही न्यारी
मिथिला की लाडली राजकुमारी
माता सुनयना पिता जनक की राजदुलारी

 राजा जनक ने स्वंय रचाया
बडे बडे राजाओं को बुलाया
अयोध्या का राजकुमार ऋषि विश्वामित्र अनुज लखन संग आया
शिव का धनुष तोडना थी एक शर्त
राजा जनक ने लिया था ब्रत
राजाओं ने जोर लगाया
कोई उस धनुष को तोड़ नहीं पाया
मिथिला नरेश का दिल भर आया

    ऋषि विश्वामित्र के आदेश पर प्रभु राम ने शिव धनुष को तोड़ा
मिला चंद्र चकोर का जोड़ा
जनकपुरी से छूटा नाता
अवधपुरी से जोडा
कोमल थी वो कली
महलों मे वो पली
वनवास को चली
पतिव्रता थी वो नारी
वनगमन की करी तैयारी

राम ने उन्हें बहुत समझाया
माता सीता ने पत्निधर्म निभाया
पत्निधर्म की रखी लाज
त्याग दिया महारानी का ताज

  वनवास मे सदा रही साथ
थामै रखा प्रभु का हाथ

   रावण ने सीता का अपहरण किया
गिद्दराज जटायु ने पापी का सामना किया
लड़ी रावण से भीषण लड़ाई
 जटायु ने अपनी वीरता दिखाई
अंत मे जटायु ने वीरगति पाई
   लंका मे सीता ने आत्मबल दिखाया
लंकेश का हर प्रलोभन ठुकराया
त्रिजटा ने सीता को बेटी बनाया
हर तरह से माता सीता का मनोबल बढाया

    राम ने लंका पर की चढाई
वानरों की मदद से छेड़ी लड़ाई
अंत मे लंका पर विजय पाईं

सीता मैय्या ने दी अग्नि परीक्षा
पूरी की विधाता की इच्छा
अग्नि परीक्षा मे सफल रही सीता
निष्कपट हो कर निकली सीता

   हर चुनौती को हस हस कर झेला
वीर लव कुश की तुम माता
धरती पुत्री विशेष था नाता
मैय्या गुणगान करूं तेरा सुबह शाम
हे माता तुम्हें प्रणाम


          अशोकशर्मा वशिष्ठ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें