मंगलवार, 25 अगस्त 2020

कवि आकाश अग्रवाल लहार जी द्वारा 'कलम की शक्ति' विषय पर रचना

*मंच को नमन*

कविवाणी कविता काव्यपाठ
विषय-कलम की शक्ति!
विधा-स्वतंत्र
दिन-मंगलवार
दिनाँक-25/8/20


*कलमकार कहाँ हो तुम कलम की ताकत भूल गए हो क्या;*
*मोटी रकम के चक्कर मे कलम की स्याही बेंच दिए हो क्या!!*
*भ्रष्टाचार की मौसी भी जन-जन को अपने कब्जे में ले रही हैं;*
*कलम की नोक छोड़कर राजनीति के पैर दबाने लगे हो क्या!!*


अप्रकाशित औऱ स्वरचित रचना

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
@कवि_आकाश_अग्रवाल_लहार(candy)!!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें