शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

कवि/लेखक/गीतकार/समाजसेवी श्याम कुँवर भारती (राजभर) जी द्वारा 'चाँद खिला जाएगा' विषय पर रचना

कविता- चाँद खिला जाएगा |
प्यार सिर्फ तुमसे सदा किया जाएगा |
धोखा नहीं तुमसे कभी किया जाएगा |
अब गम मिले या खुशी परवाह नहीं |
खुशी गम का भी मजा चखा जाएगा |
चाहे जान जाये तुमसे जुदा न होंगे |
प्यार करने का सलीका सीखा जाएगा|
तेरे हुशनों जमाल का कमाल क्या कहे |
जर्रे जर्रे चर्चा ए हुष्न तेरा लिखा जाएगा |
दूध का दरिया चमक चाँदनी कुछ नही |
चमक तेरे चहेरे से चाँद खिला जाएगा |
इश्क करो या इबाददत करो सही तुम |
नूर ए खुदा तुझे इश्क वो दिखा जाएगा |
जुदा सच्ची मोहब्बत कोई करेगा क्या |
प्यार के दुशमन वक्त खुद मिटा जाएगा |

श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी 
बोकारो झारखंड मोब -9955509286

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें