रविवार, 16 अगस्त 2020

कारे-कारे मेघ अम्बर पर आयें

🌹कारे-कारे मेघ अम्बर पर आयें🌹
********************************
आमोदित मन मयूर करें नृत्य,
     कारे-कारे मेघा अम्बर पर आयें।
         उमड़-घुमड़ के बरसें बदरा,
            हर्षित दादुर झूम-झूम के गायें।
                 रहि-रहि शोर मचावे जंजीरा,
                      जरत जिया में आग लगायें ।
                        उष्म-वेदना वेदित वसुधा तड़पे,
रस भींगत तन खिल-खिल जायें।
     हरियाली वसन कर धारण ,
           अचला तन अलंकार सजायें।
               वसुधा ललाम पर लज्जा की लाली,
                    दामिनी दमक दर्पण दिखलायें।
                     अम्बर से बरसें प्रेम-सुधा मेघपुष्प,
चंचल चित चपला चम-चमचमकायें ।
     अम्बर पर आयें मेघा उमड़-घुमड़ कर ,
           नव-पल्लव झूम-झूम कजरी गायें।
                ग्रीष्म उष्मा से पीड़ित वसुधा प्यासी,
                  धरा मनाये जल बरसायें बदरा आयें।
                       सुन्दर सुमन खिले सौरभ महके,
मधुकर फूलों से रस-पुष्प चुरायें।
      पवन करे तन को आनंदित छूकर,
            पवन पुरवाई  मस्ती में लहराये।
               वन में पीहू-पीहू गायें मोर पपीहा,
                 कारे-कारे मेघ  अम्बर पर छाये।
                        सिंधु-सरिता अथाह जल-पूरित 
उमड़-उमड़ हर्षित तट बंधन तोड़े।
     बरस-बरस सावन अति मनभावन,
         धरा-गगन मिलन के प्रणय गीत गायें।
              पावस ऋतु अति मनभावन सावन,
                 कारे-कारे मेघ अम्बर पर आयें।

स्वरचित और मौलिक     💐  समाप्त💐
सर्वाधिकार सुरक्षित
लेखिका:-शशिलता पाण्डेय
  

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें