बुधवार, 26 अगस्त 2020

कवयित्री शिवांगी मिश्रा जी द्वारा 'हालांकि' विषय पर रचना

*हालांकि*

किस्मत में साथ ना था सो मुझे छोड़ गया वो ।
सफर साथ का ना था सो रुख़ मोड़ गया वो ।।

हालांकि मोहब्बत तो बहुत की थी इक दूजे से हमने ।
हमसे ज्यादा चाहने वाला मिला सो नाता तोड़ गया वो ।।

स्वरचित.....
शिवांगी मिश्रा
लखीमपुर खीरी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें