मंगलवार, 25 अगस्त 2020

वरिष्ठ कवि सह बदलाव अंतर्राष्ट्रीय मंच सलाहकार संरक्षक, हरियाणा के शैलेंद्र सिंह शैली द्वारा भोले शंकर जी काव्य-पुष्पार्पण

*भोले शंकर*
भोले शंकर ओ भोले शंकर
दे-दे तू हमें ऐसा कोई मंतर
मन में पाप रहे ना कोई
दिल में मैल रहे ना कोई
भोले शंकर ओ भोले शंकर
रहें यहां सब मिलजुल कर
निर्भया बने ना बेटी कोई
अपने संस्कार-संस्कृति छोड़े ना कोई
भोले शंकर ओ भोले शंकर
करता नहीं किसी में तू कोई अंतर
बेईमानी करे ना कोई
अत्याचार करे ना कोई
भोले शंकर ओ भोले शंकर
ऐसा हो ये जग सागर।

रचनाकार:- शैलेन्द्र सिंह शैली
महेन्द्रगढ़, हरियाणा
©®

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें