शनिवार, 22 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पांडेय जी द्वारा रचित सुंदर रूप में कविता 'हर सपना अधूरा रहता है'

💐हर सपना अधूरा रहता हैं💐
*********************
जो नीदों में देखें सपना,
     अपना सबकुछ खोता है
         दूर भटक कर सच्चाई से।
             झूठें सपनें बुनता है।
             बस करता है एक कल्पना,
        दोष किस्मत के माथे मढ़ता है।
      ऐसे लोंगों को जीवन मे,
    नहीं कोई सपना पूरा होता है
     होते है हर ख्वाब अधूरे ।
         जीवन-भर को रोता है।
           जो जीवन का लक्ष्य बनाकर ,
               मेहनत  लगन से पूरी करता है।
                  ऐसे मनुज का जीवन मे,
                     हर सपना अपना होता है।
                        पाषाणों के पर्वत पर भी,
                      मेहनत से मार्ग बनाता है।
                  अपना फर्ज निभाकर के,
               हिम्मत को हथियार बनाता है।
           जोश जगाकर जीवन में, 
           विश्वास से आगे बढ़ता है।
              पथ में कितनें अवरोध मिलें,
                 वो मंजिल पाकर रहता है।
                   जो डर जाएं बाधाओँ से,
                     कभीं सफल नही होता है।
                      कठिन सफर वो जीवन का,
                      कोई पथ नही निश्चित होता है।
                    पथरीले राहों पर चलकर,
                      जिसका पाँव घायल नहीं होता है।
                        हर सपना जीवन का उसके,
                        कभी नही अधूरा रहता है।

          स्वरचित  और मौलिक      
             सर्वाधिकार सुरक्षित   लेखिका- शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें