रविवार, 9 अगस्त 2020

हार्दिक अभिनंदन शिक्षा-नीति नूतन प्रारुप

प्रदर्शन पट्ट के युग में जालतंत्र का मायाजाल 
बिन गति के अधूरा सारा काम 
कार्यालय से लेकर विद्यालय तक कोई ना अछुता है इससे 
स्वचालित  कल-पुर्जों का दौर 
औद्योगिक विकास के केंद्र में बहुप्रतिभा की है माँग 
नयी नवेली शिक्षा नीति इन्हीं आयामों की आधार 
बुनियादी ढांचे के दरकार 
तक्षशिला और नालंदा के तर्ज़ पर 
शोध विषय पर पुरा ध्यान
स्वागत है अभिनंदन है प्रदर्शन युग के आधारशिला का
विश्व गुरु भारत की महिमा फिर से पुनर्स्थापित होगी
इक्कीसवीं सदी की युवा पीढ़ी मिलकर नया आयाम गढ़े 
भारत के शिक्षण-प्रशिक्षण प्रणाली को उच्च गुणवत्ता तक पहुँचाए


✍कमलेश कुमार गुप्ता

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें