शनिवार, 22 अगस्त 2020

कवि देवेंद्र चौधरी जी द्वारा रचित कविता 'व्यवस्थापन'

🌺
                        *व्यवस्थापन* 
                         
 *जहां  फाँसीपर  झूलता  हो  देश का किसान।* 
 *वह  है    प्यारा     देश    हमारा     हिंदुस्तान।* 

 *राजनीति   में   हो   गये   वह   लबालब सब,* 
 *मनमर्जी   से  चल   रहा   व्यवस्थापन   जब।* 
 *कोन   किसको    रोखेगा   सब  है  चोर-चोर?* 
 *जहां   चोरों   का     पूरा   होता   है  अरमान।* 
 *वह  है    प्यारा     देश    हमारा     हिंदुस्तान।* 

 *कुत्ते     को    खिला   रहे   घी   और    रोटी,* 
 *दूसरी ओर  तड़प  रही  बहुत माँ  और  बेटी।* 
 *ससुर घर बुलाये,  माँ-बाप को भेजे वृद्धाश्रम,* 
 *वह       कैसी     होगी      उनकी      संतान?* 
 *वह  है    प्यारा     देश    हमारा     हिंदुस्तान।* 

 *चूल्हा   जलता    नही  बरसात की फुवार से,* 
 *जिंदा   हो   गया  दफन  कर्जे   की   मार से।* 
 *मजहबों  की  दुकानें  खोली  हर  चौराहे  पर,* 
 *उन  लोगों ने  बना  दिया  देश  को कब्रस्तान।* 
 *वह  है    प्यारा     देश    हमारा     हिंदुस्तान।* 

 *हिन्दू,  मुस्लिम,   सिख   ईसाई   का  नारा है,* 
 *फिर क्यो नही दिखता आपस मे भाईचारा है?* 
 *क्या   पढ़े   लिखे   का    कोई    अर्थ   नही?* 
 *इन्सानियत  को   भूलकर क्यो हो रहे शैतान?* 
 *वह  है    प्यारा     देश    हमारा     हिंदुस्तान।* 
-----------------------------------------------------------
 *कवि-देवेंद्र चौधरी, तिरोडा*
   *ता  २२/०८/२०२०* 
-----------------------------------------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें