शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'अग्निदेवता' विषय पर रचना

💥अग्निदेवता💥
***🌷**🏝️**🌷**🏝️**
सारे संसार की अद्भुत शक्ति,
    नही बिना अग्नि-देवता के भक्ति।
          पलभर में हर लेते जीवन,
               एक चिंगारी आग लगाती।
पल में सब जलकर स्वाहा,
       शुभ-अशुभ दोनों की शक्ति।
            ठहरे जीवन मानव का जब,
               करे ना अग्नि-देव की भक्ति।
पल में जलकर सबकुछ स्वाहा,
    जब अग्नि देवता हो आक्रोशित।
          एक अग्नि बुभुक्षा की जो,
             जलाती बुद्धि-विवेक आसक्ति।
बिना अग्नि के बनता ना भोजन,
     मौजूद भले हो सारे अन्न-धन।
           विवाह ना,पूजा-पाठ आयोजन,
                  जब चिंगारी आग लगाती
पल में सब जलकर स्वाहा।
       एक अग्नि मन में आग सुलगाती,
             पर-ईष्या के अग्निकुंड में।
                  बिन चिंगारी जलता मानव,
पर-सुख की पीड़ा की अग्नि।
     राग-द्वेष में करता तांडव,
            तपन होती बड़ी भयानक।
                 पीड़ित मानव बनता दानव,
शनै-शनै जलता है जीवन।
     बदले की ज्वाला में जलकर,
            बनता मानव एक विध्वंसक।
                बुनता छल-कपट और हिंसा का,
रोज नया एक जाल भयानक।
       माचिस की तीली सा जलकर,
              जलाए सारा विश्व अचानक।
                   एक चिंगारी आग लगाती,
                      पल में  सब जलकर  स्वाहा।

🌹समाप्त🌹 स्वरचित और मौलिक
                     सर्वाधिकार सुरक्षित
           लेखिका:-शशिलता पाण्डेय


                          

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें