रविवार, 30 अगस्त 2020

अध्यक्षा,राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय 'बदलाव मंच' महिला प्रकोष्ठ कवयित्री रूपा व्यास द्वारा लघुकथा

*नमन 'बदलाव मंच'*

*लेख-लघुकथा गद्य विधा*

*दिनांक:-30-08-20

*घोषणा-यह घोषणा की जाती है कि यह मेरी स्वरचित रचना है।*

*विषय* -
*'एक साहित्यकार और एक आम आदमी में अंतर'*
      
                    साहित्यकार वह व्यक्ति है,जो समाज के प्रति सूक्ष्म दृष्टि रखते हुए,किसी भी घटना को अनोखा रूप प्रदान कर साहित्य रूप में प्रस्तुत कर सकता है।
                  मैं इस बात को इस उदाहरण से समझाना चाहूँगी,जो कि मेरे घर की वास्तविक घटना है-

   शीर्षक-'स्वस्थ समाज'(लघुकथा)

बेटी परी ने अपने नानू से पूछा,नानू "आज ये टिड्डी दल रावतभाटा में क्या कर रहे हैं?"
          तो उन्होंने उत्तर दिया "बेटी, परी, ये पाकिस्तान से आ रहे हैं",अच्छा तो पहले चीन ने कोरोना वायरस भेजा और अब पाकिस्तान टिड्डी दल भेज रहा है।
           नानू,"ऐसा लोग क्यों करते हैं?"जबकि भारत देश तो सब देशों को कोरोना से बचाव के  लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन की दवाई भेज रहा है।
             अगर नानू ,सब देश मिलकर सबकी भलाई की सोचें तो जो आपने सिखाया कि 'वसुधैव कुटुंबकम' मतलब पूरी पृथ्वी हमारा परिवार है तो हम किसी भी बीमारी व आपदा  का मिलकर सामना कर सकते हैं।
           परी बेटी की बातें सुनकर मेरे मन में सकारात्मक विचार आया कि अगर  सभी राष्ट्र की सोच ऐसी हो जाय तो सच में हम सब एक 'स्वस्थ समाज' का निर्माण कर सकते हैं।
   
            'आम आदमी' वह है,जो भले ही लिखता न हो,लेकिन उसमें समाज -सेवा या उचित धर्म-अधर्म की बातें समय विशेष अथवा विभिन्न परिस्थितियों में उत्पन्न होती रहती हैं।
              इस बात को हम इस प्रकार समझ सकते हैं-
               "एक बार एक सच्चा व्यक्ति एक बगीचे में खड़ा था।थोड़ी देर में उसने देखा कि एक गाय दौड़ती हुई उसकी बाई दिशा की ओर चली गई,फिर उसके पीछे एक दढ़ियल व्यक्ति डंडा लेकर आता हुआ,दिखाई दिया।
       उसने उस सच्चे आदमी से पूछा क्या तुमने किसी गाय को यहाँ से जाते हुए देखा है?
            तो पहले तो वह सोचने लगा लेकिन फिर उसने उसे मना कर दिया और वह दढ़ियल आदमी भी दाई दिशा की ओर चला गया।" 
      
        उस सच्चे आम व्यक्ति ने किसी का जीवन बचाने के लिए झूठ कहा तो भी उसका झूठ ,सही व धर्मानुसार माना जाएगा।
   
         इस बात से यह ज्ञात होता है कि एक आम व्यक्ति में भी  अलग-अलग स्थितियों में  साहित्यकार की प्रकृति उत्पन्न हो सकती है।

         इस प्रकार एक साहित्यकार और एक आम व्यक्ति में अंतर होता  है।
 

नाम-रूपा व्यास
अध्यक्षा,अंतरराष्ट्रीय/राष्ट्रीय महिला प्रकोष्ठ 'बदलाव मंच'(साहित्यिक/सामाजिक/सांस्कृतिक मंच),लेखिका/कवयित्री/न्यूज़ रीडर(बदलाव न्यूज़)/काव्य क्षेत्र में भारत में प्रथम अवार्ड से सम्मानित,उपराष्ट्रपति भैरोसिंह शेखावत जी से सम्मानित/समाजसेविका/गीतकार/शिक्षिका
-'परमाणु नगरी'रावतभाटा,
चित्तौड़गढ़,(राजस्थान),पिनकोड-323307
ईमेल-आईडी-
rupa1988rbt@gmail.com

             
                 -धन्यवाद-
                🙏🌺🙏


              -धन्यवाद-

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें