शुक्रवार, 21 अगस्त 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन द्वारा रचित 'हिंदी' विषय पर कविता

आओ साथी हम अपनाए,                                                 .                     भाषा हिंदुस्तान की ।
      इस भाषा पर अमल करो , 
                    ये भाषा अपनी शान की । 
     जय जय हिंदी, जय जय हिंदी ,
                        लिखो हिंदी पढ़ो हिंदी ।  
      बोलो हिंदी जय जय हिंदी ॥ 

      सब से पहले इंडिया नही , 
                      भारत बोलना  शुरू करो । 
     इंग्लीश का बहिष्कार करो , 
                       हिंदी से सब प्यार करो । 
    बोलो हिंदी, अपनाओ हिंदी, 
                   जय जय हिंदी, जय जय हिंदी ॥ 

    हाय हेलो बोलना छोड़ो , 
                     जय हिंद से नाता से जोड़ो । 
     गुड मार्निंग गुड नाइट छोड़ो , 
                       जय श्री राम प्रेम से बोलो । 
     जब भी किसी से मिलो मिलाओ, 
                       बंदे मातरम गर्व से बोलो । 
    बंदे मातरम बंदे मातरम , 
        ..          जय जय हिंदी जय जय हिंदी ॥ 

   संस्कृत की बेटी हिंदी , 
                 अपनी है संस्कृति हिंदी । 
   अपनी राष्ट्र भाषा है हिंदी , 
                  अपनी मातृ भाषा है हिंदी । 
  माँ भारती के भाल की बिन्दी, 
                   जय जय हिंदी, जय जय हिंदी ॥ 
 
  नानी की कहानी हिंदी , 
                  अम्मा की है .लोरी हिंदी । 
 अपने वेद पुराण है हिंदी, 
                 रामायण ओर गीता हिंदी । 
   रहीम कबीर की वाणी हिंदी , 
                   अपना तो इतिहास है हिंदी । 
   गर्व से बोलो हिंदी हिंदी , 
                    निर्दोष गा रहा हिंदी हिंदी । 
  जय जय हिंदी, जय जय हिंदी ॥ 
    
..                             जय हिंद जय हिंदी 
                                         बंदे .मातरम 
                   निर्दोष लक्ष्य जैन 
                         धनबाद 
                      6201698096

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें