सोमवार, 31 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी जी को भावभीनी श्रद्धांजलि🌹🌹🙏

भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को
         भावभीनी श्रद्धांजलि🌹🌹🙏🙏
***************************
पद्मभूषण और भारतरत्न से सुशोभित,
आज एक जगमगाता सितारा,
 विलुप्त हो गया।
रात का चमकता चाँद ,
सदा के लिए बादलों में खो गया।
चमन का महकता फूल,
 अपनी अनूठी खुश्बू छोड़ गया।
शेरदिल बंगाल बहादुर,
 इस दुनियाँ से दूर गया।
 कहलाते थे राजनीति के चाणक्य ,
 मुस्किलो में भी चट्टानों से अड़े,
देश के महानता में हीरे से जड़े।
 कभी न हिम्मत हारनेवाले,
 अपनी दूरदर्शिता संग ले गए।
देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति से पूर्ब,
कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और जान थे।
हमारे प्रणव दादा नेता बड़े महान थे।
कठिन फैसले आसानी से लेने को,
  सारी दुनियाँ में मशहूर थे।
 हमारे भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी,
   हमारे देश के गुरुर थे।
*************************
हमारे भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को शांतिपूर्ण
  भावभीनी  श्रद्धांजलि🌹🌹🙏🙏

स्वरचित और मौलिक
शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें