शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'पुस्तकालय' विषय पर रचना

🌷पुस्तकालय से ल🌷
""""'''''''''''''""""""""""'""""""""""""""""""""""
🌷*🌷*🌷**🌷*🌷**🌷*
""""''''"""""""""""""""'""""''"'"""'''''"""""""'''"
होता पुस्तकालय पथ प्रदर्शक,
     हर लेता मन के गहन तिमिर।
       अपनी सबसे सच्ची प्रीत है पुस्तक,
          करे जीवन का अज्ञान-अंधेरा दूर।
हृदयतल को करती आलोकित,
     बहाये ज्ञान की निर्मल एक धार।
        जीवन-यात्रा की जीत है निश्चित,
              पुस्तकालय ज्ञान का एक सागर।
ज्ञान-अर्जन से होता पथ-प्रशस्त,
     करता पद-प्रतिष्ठा की ओर अग्रसर।
         बनाता नित नए विचारों को जीवंत,
              पहुँचाता अंधकार से प्रकाश की ओर।
करें अज्ञान अंधविश्वास के बंधनों से मुक्त
      खोले मानव-जीवन का ज्ञान-चक्षु निरन्तर।
           जगाता जीवन-जीने को विचार उन्मुक्त,
                 हृदय में निर्मल ज्ञान-सागर लहराकर।
करें जीवन सरल ज्ञान- दीप कर प्रज्वलित,
     सभ्यता का करे विकास कर दूर मन- बिकार।
          करता मान-सम्मान से जीने के ज्ञान विकसित,
            करे पथ प्रदर्शित पशुता से मानवता की ओर।
पुस्तकालय से होती जीवन की दिशा प्रकाशित,
       पुस्तक करता निर्मित निरंतर नया संसार।
            होता हर जीवन-ज्ञान पुस्तकालय में संग्रहित ,
                 ज्ञानार्जन ही मानव-जीवन का आधार।
  🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
                      स्वरचित और मौलिक
                       सर्वाधिकार सुरक्षित
🥀समाप्त,🥀    लेखिका-शशिलता पाण्डेय
              

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें