रविवार, 30 अगस्त 2020

कवि शैलेन्द्र सिंह शैली जी द्वारा रचित 'हाइकु'

*### हाइकु ###*
यह जिंदगी
आपने नवाज़ी है
आप संभालो।

=================

खुली रहती
रोज़ राहें दिल की
कोई पुकारे।

=================

जीता हूं ऐसे
टूटे शीशे को जैसे
जोड़ता कोई।

=================

झांकती वह
खिड़कियों को खोल
सलाखों में से।

=================

चाहत मेरी
लचचाए बदन
तू साख जैसे।

=================
हाइकुकार:- शैलेन्द्र सिंह शैली
    महेन्द्रगढ़,हरियाणा
     9354998007

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें